अवलोकन

राष्ट्रीय प्रशिक्षुता प्रशिक्षण योजना एक वर्ष का कार्यक्रम है जो तकनीकी दृष्टि से शिक्षित युवजन को उस व्यावहारिक ज्ञान और उन कौशलों से युक्त बनाती है जिनकी आवश्यकता उन्हें अपने कार्यक्षेत्र में पड़ती है। इसके अंतर्गत प्रशिक्षुओं को विभिन्न संगठनों द्वारा उनके कार्यस्थल पर ही प्रशिक्षण दिया जाता है। इसमें सुविकसित प्रशिक्षण मॉड्यूलों का उपयोग करके प्रशिक्षित प्रबंधक यह सुनिश्चित करते हैं कि प्रशिक्षु गण अपने काम को शीघ्रता से और पूर्णता से सीखें। प्रशिक्षण अवधि के दौरान प्रशिक्षुओं को वृत्तिका राशि दी जाती है जिसकी आधी राशि का भुगतान भारत सरकार द्वारा नियोजकों को किया जाता है। प्रशिक्षण के अंत में प्रशिक्षुओं को भारत सरकार द्वारा प्रवीणता प्रमाणपत्र दिया जाता है जिसको मान्य कार्यानुभव के रूप में देशभर के सभी नियोजनालयों में पंजीकृत कराया जा सकता है। प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षण केंद्र सरकार, राज्य सरकारों और निजी क्षेत्र के उन संस्थानों में दिया जाता है जिनके पास अत्युत्तम प्रशिक्षण सुविधाएँ उपलब्ध हैं। राष्ट्रीय प्रशिक्षुता प्रशिक्षण योजना भारत सरकार का एक अग्रणी कार्यक्रम है जो भारतीय युवावर्ग की कुशलता को बढ़ाने के लिये है।

हम विशिष्ट क्षेत्र क्या करते हैं पता करने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

हम यह क्यों करते हैं?

प्रशिक्षुता किसी उस्ताद कारीगर के मातहत किसी कला या व्यवसाय को सीखने का एक बहुत ही आजमाया हुआ और पुराना तरीका है। प्रशिक्षुता प्रशिक्षण योजना एक ऐसा कार्यक्रम है जिसमें तकनीकी दृष्टि से शिक्षित युवा एक मुख्य प्रशिक्षक के मातहत ऐसा प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं जो आधुनिक परिदृश्य में रोजगार के लिये उपयुक्त हो। इसमें ‘सीखो और कमाओ’ जैसा दुहरा लाभ भी है। प्रशिक्षुता कोई कौशल सीखने के इच्छुक एक प्रशिक्षु और कुशल कर्मी की आवश्यकता वाले रोजगार प्रदाता के मध्य एक समझौता है। इसमें प्रशिक्षुओं को कार्य क्षेत्र से संबंधित नवीनतम अनुप्रयोगों, प्रक्रियाओं और पद्धतियों की शिक्षा देश के कुछ अति प्रसिद्ध संस्थाओं द्वारा प्रदान की जाती है। यह विद्यालय/महाविद्यालय के छात्रों के लिये कक्षा से कार्यक्षेत्र में प्रवेश करने का समय होता है। इस प्रशिक्षण के दौरान प्रशिक्षु को शिष्ट व्यवहार के कौशलों, कार्य संस्कृति, नैतिक मूल्यों तथा संगठनात्मक व्यवहार की शिक्षा भी दी जाती है। यह सब भविष्य में स्थाई रोजगार प्राप्त करने में उनके काम आता है। एक वर्ष की प्रशिक्षण अवधि के अंत में प्रशिक्षु को किसी क्षेत्र विशेष में उसकी दक्षता से संबंधित प्रमाण पत्र भी दिया जाता है।

Minister of State for Human Resource Development

Dr. Mahendra Nath Pandey

Hon'ble Minister of State for HRD (Higher Education)

Shri Upendra Kushwaha

Hon'ble Minister of State for HRD (School Education & Literacy)

लोग

श्री ए. अय्याक्कन्नू
निदेशक, BOAT (SR)
्री पी.एन. जुमले
निदेशक, BOAT (WR)
श्री एस.एम. एजाज अहमद
निदेशक, BOPT (ER)
Shri S.K. Mehta
निदेशक, BOAT (NR)
  • indiagovt 
  • datagovt 
  • dialgovt 

सामग्री व्यावहारिक प्रशिक्षण के शिक्षुता प्रशिक्षण / बोर्ड के बोर्डों द्वारा प्रदान की

कॉपीराइट © 2015 NATS. सर्वाधिकार सुरक्षित.